💖👩‍👩‍👧‍👦💖 Rishton ke yahi roop ban jate hai zindgi 💖👩‍👩‍👧‍👦💖

Andhere mein hi chipta ujala hai

Jaise aasmaan mein chand aur sitara hai

Pal bhar mein aise badle zindgi

Jaise samay ki dhaara hai

Nanhe – nanhe kadam sang late hai khushi

Rishton ke yahi roop ban jate hai zindgi

Har rishte ki hoti hai pahchaan apni

Rang jaise puri karte berang tasveron ki kami

Bachpan ki athakheliyan waqt sang le jata hai

Dosti ka rishta bhi apna rang dikhata hai

Pyar ki paribhasha yahi batlati hai

Saat pheron ka bandhan jivan sanwaarti hai

Kahin na kahin hum sab ye maante hai

Wahi farishte rishton ka roop lekar

Apni zindgi mein lout kar aate hai

Aasmaan mein jakar

Jo tare ban jate hai

Warna aap kudh hi socho

Tare toot kar kahan chale jate hai

Bhare pure parivaar mein khushiyan , Sukha , Samridhi ke saath

Khud aakar Rab apna ghar basate hai

रिश्तों से बढ़कर जिंदगी में कुछ नही होता

रिश्तों से हम होते है

हमसे रिश्ता नही होता

*******

PANKH

https://bepankha.wordpress.com/

Advertisements

!! अब कौन ये बतलाए !!

मेरा मन हर पल मुझसे

ये कहता है

कहीं रुकना ना तुझको

पानी सा बहना है

पर मेरी कमियां ही

मेरे पांव ( हौसलों ) के

बंधन बन जाए

हर तरफ फैले उजालों में

मुझे अंधेरा नजर आए

बस अंधेरा ही नजर आए

है अधूरी हर ख्वाहिश

उलझा – उलझा सा कुछ मन है

सोच में है हलचल

कोरे कागज जैसा बीता हर पल है

हर सपना रेत के घर जैसा

पल भर में टूट जाए

दिल की जमीं भी बंजर

जिसमे कोई चाह कर भी

उम्मीदो के

फूल कैसे खिला पाए

कोई फूल कैसे खिला पाए

Image Credit – Google

देखूं जब दुनियां को

हर तरफ रंग ही रंग है

हरियाली धरा है

सतरंगी अम्बर है

फूलो की खुशबू भी फिजा को महकाए

आशा अभिलाषाओं के दीप

हर किसी के मन को जगमगाए

पर ये रंग , खुशबू ये रोशनी

मेरे मन को ना छू पाए

क्यों मेरे मन को ना छू पाए

आंखो में सपनों की जगह

आसुओं ने ले ली है

राहें है बहुत सी

कहां जाऊं ये कश्मकश है

ना नींद नैनों मे

ना कोई ख्वाब ये अखियां बुन पाए

हाथों की लकीरें भी

हाथों से मिटती जाए

अब कौन ये बतलाए

बिना लक्ष्य कोई कैसे जिंदगी जी पाए

*********

पंख

https://bepankha.wordpress.com/

💞 !! रक्षाबंधन !! 💞

रस्मों से साथ है

खुशियों का वास है

प्यार की पहचान है

रक्षाबंधन

जज्बातों का मेल है

रब की ही देन है

माना है मैंने ये

रिश्ता है रब का दर्पण

रेशम का तार है

मन का विश्वास है

अटूट है कच्चे धागे से बंधा ये

शरारतों का बंधन

Image Credit – Google

रूठना मनाना है

हंसना हंसाना है

साथ निभाने की परिभाषा है

है ये भाई – बहनों का

बंधन

सुख – दुख की छाव है

चाहे कितनी ही दूरी हो

दिल से जुड़ा है

दिल का रिश्ता है ये

रक्षाबंधन

💞 💞 💞

पंख

💓 Dil ki sune ya hum na sune 💓


💓💓💓

Ye dil kuch kahta hai

Aur

Hum kuch kar jate hai

Chalte – chalte manjil kya

Raashte bhi kahin kho jate hai

Ek

Jara si soch badalne se nazaare kya

Nazariye bhi badal jate hai

Har waqt

Sirf auron ki hi khata nahi

Kuch Gustakhiyan

Hum bhi kabhi kar jate hai

Aisa kyon hota hai

Tanhai me dil rota hai

Apne anjaan ban jate hai

Anjaan apne ho jate hai

Kyon haathon se haath apno ke

Waqt ke saath chut jate hai

Khawab jo rahte hai in aankhon me

Tutkar

Ek pal me bikhar jate hai

Image Credit – Google

Gam ke ho

Ya

Khushiyon ke ho pal

Aansu aankhon se chalak jate hai

Khawaishein adhoori rah jati hai

Duaaye bhi rang lati hai

Ek baar Jeet bhi le saari duniya hum

Aksar

Apno se hum haar jaate hai

Koi kaise kare bayan

Jo dard apne de jate hai

Ehsaas ho agar sacche

Khamoshiya

Bayan kar jate hai

Kyon ye chahate

Ankahi

Dastane ban jate hai

Tu hi bata ae zindgi

Dil ki sune ya hum na sune

Kaise roke hum in palo ko

Lamhen bankar jo gujar jate hai

Bas

Yaadain bankar rah jate hai

💓💓💓

PANKH


◆◆ विरह ◆◆

ऐसा क्या हमने किया किस बात

की दी ये सजा

तुमसे प्यार करके क्या की

हमने कोई खता

हमने तुमपे किया भरोसा

क्यो हमसे दगा किया

साथ देने का वादा देकर

क्यो तन्हा छोड़ दिया

बता क्यो ऐसा किया

बता क्यो ऐसा किया

कान्हा

बता क्यो ऐसा किया

बता क्यो ऐसा किया

Image Credit – Google

तुमपे था यकीन इतना

जितना खुद पर नही

अपना रब माना

हमने तुमको

तुमने ही हमे छला

जिस्म भले ही दो है

रूह तो एक ही हम

ऐसा साथ है अपना

जैसे दिया का बाती संग

हर बंधन से परे साथ अपना

है प्रेम की पराकाष्ठा भी हम

विरह का ये दर्द क्यो कान्हा

तुमने मुझे दिया

बता क्यो ऐसा किया

बात क्यो ऐसा किया

कान्हा

बता क्यो ऐसा किया

बता………………..

*********************

पंख

◆◆ सफर ◆◆

सफर जिंदगी का आसान नही होता

हर देखा हुआ सपना साकार नही होता

चलते – चलते लड़खड़ाते है उन्ही के कदम

जिनके साथ सच का साथ नही होता

मंजिलों को वो लोग पा ही लेते है जिन्हें मुश्किलो का कोई डर नही होता

गलत राह पर चलकर जो पाते है खुशी

उनके साथ अपनो का साथ क्या

विश्वास भी नही होता

******************

पंख

Image Credit – Google

https://bepankha.wordpress.com/?p=178